हमें अपने लेख आलेख , कविता , कहानी , सामाजिक गतिविधियाँ , सामाजिक युवा पीढ़ी की गतिविधियाँ , कृषि के क्षेत्र में किये गए हमारे मुलभुत उपलब्धियां ऐसे हर वो जानकारी जो आप अपने साथ-साथ समाज के आखिरी व्यक्ति तक पहुचाना चाहते हैं ! सहर्ष आमंत्रित है ....

   संविधान

धारा :- १ - नामकरण :- अपने समस्त चंद्रनाहू (चन्द्रा) समाज को एक सूत्र में पिरोहित करने वाली                 संस्था का नाम श्री चंद्रनाहू जातीय विकासशील केंद्रीय महासमिति है !
धारा :- १ (क ) विजन :- " शोशंविहीं समतामूलक समाज की स्थापना करना "
धारा :- १ (ख) मिशन :- "समस्त चंद्रनाहू (चन्द्रा ) समाज के लोगों के सामाजिक, आर्थिक, सांस्कृतिक                 व राजनितिक विकास हेतु नशाविहिना, विक्षिप्त, संगठन निर्माण व जन जागरण के                  माध्यम से ससक्त व आत्मनिर्भर समाज की संरचना करना"
धारा :- २ - उद्देश्य :- १. समाज को चहुमुखी विकास की दिशा प्रदान करना.
                २. समाज में शिक्षा का प्रचार प्रसार करना. आवश्यकतानुसार विद्यालय, महाविद्यालय एवं                 छात्रावास का निर्माण करना.
                ३. समाज के विभिन्न उत्साही एवं यज्ञ व्यक्तियों से समय-समय पर मार्गदर्शन लेना एवं                 समाज के इच्छुक परन्तु आर्थिक दृष्टि से कमजोर व्यक्तियों को विभिन्न रूप से सहयोग                 करना.
                ४. समाज में व्याप्त अंधविश्वासों एवं कुरीतियों को दूर करने का प्रयास करना.
                ५. समाज में निर्मित विभिन्न विकास समितियों में समन्वय स्थापित कर समृधि के मार्ग                 प्रशस्त करना.
                ६. समाज में आर्थिक सुधार लाने हेतु वैज्ञानिक दृष्टिकोण से विभिन्न लघु उद्योगों का                 प्रसारण करना.
                ७. समाज में परिवार नियोजन का प्रसारण एवं संविधान विपरीत बहू विवाह व बाल विवाह                 प्रथा की समाप्ति पर जोर देना तथा सामूहिक विवाह की शुरुआत करना.
                ८. समाज में नारी जाग्रति को प्रोत्साहन देना.
                ९. समाज में व्याप्त विषमता, वैमनस्यता एवं आपसी झगडे आदि को दूर करना.
                १०. भारतीय राजनीति में समाज के द्वारा सक्रियता का प्रदर्शन कर नेतृत्व हासिल करना.
                ११. लघु उद्योग, व्यापर, रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने का प्रयास करना.
धारा :- ३ - कार्यक्षेत्र :- इस समाज के कार्यक्षेत्र वे सभी स्थान हैं जहाँ चंद्रनाहू समाज के लोग निवास                 करते हैं.
धारा :- ४ - कार्यालय :- स्थायी कार्यालय :- मु.पो. - सक्ती (स्टेशन रोड) तह. - सक्ती, जिला -                 जांजगीर चांपा (छ.ग.). शाखा कार्यालय :- मु.पो. डभरा (सृजन केंद्र के कार्यालय में नेशनल                 कान्वेंट स्कूल के पास) तह. - डभरा, जिला - जांजगीर चांपा (छ.ग.) में स्थित है.
धारा :- ५ - सदस्यता :- श्री चंद्रनाहू जाति विकासशील महासमिति के सदस्यता के लिए                 निम्नांकित योग्यताएं आवश्यक है.
                (क) श्री चंद्रनाहू (चन्द्रा) समाज का हो.
                (ख) महासभा द्वारा निर्मित संविधान एवं नियमों का पालन करता हो.
                (ग) १८ वर्ष की आयु पूरी कर लिया हो.
                (घ) पाल व दिवालिया न हो.
                (च) समाज सेवा की भावना रखता हो.
धारा :- ६ - कार्य संचालन :- समाज के कार्य संचालन के लिए महासभा द्वारा केंद्रीय समिति क्षेत्रीय                 समिति एवं ग्राम स्तरीय समितियों का गठन कर, ग्रामीण, क्षेत्रीय सभावों द्वारा की जाएगी.

(क) महासमिति :-

१. श्री चंद्रनाहू (चन्द्रा) समाज के सभी वयस्क सदस्य, महासमिति के सदस्य बन सकते हैं.
२. महासभा का अधिवेशन वर्ष में एक बार लगभग दिसम्बर या जनवरी महीने को अवश्य होगी. विशेष     आवश्यकता पड़ने पर अध्यक्ष के सहमति से उप अधिवेशन भी बुला सकते हैं.
३. महासभा की बैठक हेतु मांग करने वाले गाँव को प्राथमिकता दिया जावेगा, अन्यथा क्षेत्रवार महासभा     का अधिवेशन का स्थान चयन करने का अधिकार केंद्रीय कार्यकारिणी पर होगा.

कार्य एवं अधिकार :-

१. समाज के संविधान एवं नियमावली में संशोधन करना.
२. कार्यकारिणी के पदाधिकारियों का चुनाव कराना.
३. कार्यकारिणी का वार्षिक प्रतिवेदन प्रस्तुत करना.
४. कार्यकारिणी द्वारा प्रस्तुत आय-व्यय पर विचार करना एवं स्वीकार करना.
५. कार्यकारिणी द्वारा प्रस्तुत विषयों पर विचार एवं निर्णय लेना.
६. महासभा के वार्षिक बैठक में कम से कम (कोरम के लिए) ३०० सदस्यों की उपस्थिति आवश्यक     होगी.

(ख) केंद्रीय कार्यकारिणी :-

केंद्रीय कार्यकारिणी के सदस्यों के संख्या ३६ होगी जिसमें :-
१. प्रत्येक क्षेत्रीय समिति के अध्यक्ष.
२. सहयोजन द्वारा २/५ महिला सदस्य.
३. समाज के ४ विशिष्ट व्यक्तियों का मनोनयन (शिक्षा, साहित्य, कला या अन्य विशिष्ट क्षेत्रों से).
४. केंद्रीय समिति के सदस्यों में से विशेष समितियों का गठन -
    १. शिक्षा एवं साहित्य समिति, २. कृषि समिति, ३. उद्योग एवं व्यापार समिति, ४. सामूहिक विवाह         आयोजन समिति, ५. महिला विकास समिति.

योग्यताएं :-

१. श्री चंद्रनाहू (चन्द्रा) महासभा का सदस्य हो.
२. कम से कम २१ वर्ष की आयु का हो.
३. समाज के संविधान एवं नियमावली का पालन करता हो.

कार्यकाल :-

कार्यकारिणी का कार्यकाल २ वर्षों का होगा.

संचालन :-

१. कार्यकारिणी की बैठक वर्ष में कम से कम ३ बार अवश्य होगी. आवश्यकता पड़ने पर अध्यक्ष की
     अनुमति से महासचिव विशेष बैठक बुला सकते हैं.
२. कार्यकारिणी के कार्य संचालन हेतु एक तिहाई सदस्यों की उपस्थिति अनिवार्य होगी. यदि गणपूर्ति     पूरा न, तो एक घंटे बाद पुनः बैठक करके बैठक के विषयों पर विचार किया जावेगा.

पदाधिकारी :-

१. अध्यक्ष - 1
२. उपाध्यक्ष - 3
३. कोषाध्यक्ष - 1
४. महासचिव - 1
५. अतिरिक्त महासचिव - 1
६. सहसचिव - 3
७. सदस्य (महिला सदस्य सहित) - 21
८. मनोनीत सदस्य (विशिष्ट व्यक्ति) - 5
योग - 36

अधिकार एवं कर्त्तव्य :-

१. श्री चंद्रनाहू (चन्द्रा) जातीय विकासशील महासमिति के उद्देश्य पूर्ति हेतु कार्य करना.
२. आय-व्यय तैयार करना तथा महासभा में विचार हेतु प्रस्तुत करना.
३. कार्यकारिणी को वेतनभोगी चपरासी चयन करने का अधिकार है. जिसकी कार्यावधि २ वर्ष रहेगी.
४. महासमिति को क्षेत्रीय समिति के द्वारा किये गए कार्यकलापों का विवरण लेने का अधिकार है.
५. महासभा के समक्ष वार्षिक प्रतिवादन प्रतिवेदन प्रस्तुत करना.
६. महासभा में विचारार्थ विषय सूचि तैयार करना.
७. महासभा द्वारा पारित नियमों को क्रियान्वित करना.
८. केंद्रीय कार्यकारिणी को क्षेत्रीय समिति के निर्णय के विरुद्ध अपील सुनने का अधिकार होगा.
९. कार्यकारिणी हेतु ५ महिला सदस्यों का सहयोजन करना.
१०. समाज में रचनात्मक तथा विकासात्मक गतिविधियों को गति प्रदान करने हेतु चार समितियों का
    निर्माण कर कार्यभार देना एवं उनके कार्यों का निरिक्षण करना.

पदाधिकारियों के कार्य एवं अधिकार

१. अध्यक्ष :
१. श्री चंद्रनाहू (चन्द्रा) जातीय विकासशील महासमिति के संविधान एवं संविधान में निहित सभी कार्यों     का मुखिया होगा.
२. महासभा में केंद्रीय कार्यकारिणी की अध्यक्षत करेगा.
३. महासभा एवं कार्यकारिणी की बैठक बुलाना.
४. विवाद की स्थिति में निर्णायक मत देने का अधिकार होगा.
५. महासभा द्वारा पारित संविधान एवं नियम अध्यक्ष की स्वीकृति एवं हस्ताक्षर के बाद ही लागु मानी
    जावेगी, तथा अध्यक्ष के लिए यह बाध्यता होगी की वह महासभा द्वारा पारित विधान को स्वीकृत
     करे.
६. अध्यक्ष स्वयं या महासचिव द्वारा क्षेत्रीय समितियों की जांच करा सकता है.
७. १००० रु. तक सामाजिक कार्य एवं पत्र व्यव्हार में खर्चा करने का अधिकार होगा.
२. उपाध्यक्ष :
    अध्यक्ष की अनुपस्थिति या अन्य किन्हीं कारणों से पद रिक्त होने पर अध्यक्ष के समस्त कार्य एवं
    अधिकारों का निर्वाह करेगा.
३. कोषाध्यक्ष :
    रु. २०० तक सामाजिक कार्य एवं पत्र व्यवहार में खर्च करने का अधिकार होगा, एवं समस्त आर्थिक
     लेखा-जोखा कोषाध्यक्ष का काम है. वह अपने पास ५०० रु. तक रख सकता है. बाकी रकम बैंक या
    पोस्ट ऑफिस में रख कर कोषाध्यक्ष/अध्यक्ष/महासचिव के राय से सामाजिक कार्य के लिए संयुक्त
     हस्ताक्षर से बैंक से रुपये निकाल सकता है.
४. महासचिव :
     १. महासभा एवं कार्यकारिणी के समस्त लेखा-जोखा का रिकॉर्ड रखना.
     २. अध्यक्ष के सहमती पर महासभा, विशेष सभा या कार्य कारिणी की बैठक बुलाना.
     ३. महासभा के समक्ष वार्षिक प्रतिवेदन प्रस्तुत करना.
     ४. अध्यक्ष के समाती से विधान एवं नियमों सज प्रकाशन एवं कार्यान्वित करना.
     ५. महासभा के समक्ष कार्यकारिणी द्वारा स्वीकृत विषय सूची प्रस्तुत करना.
     ६. सामाजिक रकम को किसी बैंक या पो. ओ. में श्री चंद्रनाहू जातीय विकासशील महासमिति के
        नाम से पास बुक खुलवा कर कोषाध्यक्ष को जमा करने के लिए सुझाव देना.
     ७. रु. ५०० तक सामाजिक कार्य एवं पत्र व्यवहार में खर्च करने का अधिकार होगा.
     ८. रु. ५०० तक अपने पास रख सकता है.
५. अतिरिक्त महासचिव :
    १. महासचिव द्वारा सौंपे गए कार्यों एवं अधिकारों का निर्वाह करना.
    २. महासचिव की अनुपस्थिति में उसके कार्यों एवं अधिकारों को सम्पादित करना.
६. सह सचिव :
    महासचिव व अतिरिक्त महासचिव के कार्यों में सहयोग प्रदान करना.
    क्षेत्रीय समिति का गठन :
(क). क्षेत्रीय समिति में कम से कम ७ और अधिक से अधिक ११ सदस्य होंगे, जिसमें एक महिला और
    एक विशिष्ठ प्रतिभावान व्यक्ति अवश्य हो.
(ख). क्षेत्रीय समिति का गठन क्षेत्रीय अधिवेशन में उस क्षेत्र के सदस्यों द्वारा केंद्रीय समिति द्वारा
    नियुक्त प्रभारी के उपस्थिति में किया जावेगा.
प्रतिनिधि की योग्यता :
    १. श्री चंद्रनाहू (चन्द्रा) समाज का सदस्य हो.
    २. कम से कम २१ वर्ष की आयु का हो.
    ३. समाज के संविधान एवं नियमावली का पालन करता हो.
    ४. पागल व् दिवालिया न हो.
    ५. समाज सेवा की भावना रखता हो.
पदाधिकारिगण :
    १. अध्यक्ष - १
    २. सचिव - १
    ३. कोषाध्यक्ष - १
    ४. सदस्य (महिला + प्रतिभावान सदस्य) - ८
    योग - ११
पदाधिकारियों के अधिकार एवं कर्त्तव्य :
    १. क्षेत्र के अंतर्गत चंद्रनाहू (चंद्रा) जातीय समाज के उद्देश्यों की पूर्ति हेतु कार्य करना.
    २. सामाजिक विवाद की सुनवाई ग्रामीण समिति के निर्णय की अपील के आधार उह करना और
    निर्णय लेना.
    ३. महासभा के लिए चंदा एकत्रित करना.
    ४. महासभा के समक्ष अपने कार्यों का विवरण प्रस्तुत करना.
    ५. क्षेत्र के विवादस्पद एवं आवश्यक विषय एवं विचार महासभा के समक्ष प्रस्तुत करना.
    ६. महासभा द्वारा सौंपे गए कार्यों का निर्वाह करना.
    ७. संविधान में निहित नियमानुसार जन्मा-मरण, विवाह आदि संस्कारों का पालन करवाना तथा
        निरिक्षण करना.
    ८. दुर्व्यसन टाटा कुरीतियों (शराब, जुआ, व्यभिचार, बाल-विवाह, बहु-विवाह, दहेज़, टीका एवं वृहद्
        भोजनादि) की रोकथाम नियंत्रण एवं उचित कार्यवाही का अधिकार होगा.
    ९. वैवाहिक मामलों में विवाह विक्षेद करने का अधिकार क्षेत्रीय समिति को नहीं होगा.
कार्यकाल : इसका कार्यकाल दो वर्ष का होगा.
कार्य-सञ्चालन :
    १. क्षेत्रीय समिति की बिठान साल में कम से कम तीन बार अवश्य होगी.
    २. वर्ष में एक बार क्षेत्र के समस्त सदस्यों का अधिवेशन बुलाना होगा. क्षेत्रीय अधिवेशन महासभी
         होने के पहले समाप्त ओ जाना चाहिए.
धारा :- ७ आय का साधन :-
    श्री चंद्रनाहू (चंद्रा) जातीय विकासशील महासमिति के कार्य का सञ्चालन
    एवं विभिन्न उद्देश्यों की पूर्ति हेतु आय के निश्चित स्त्रोत का होना अत्यावश्यक है. यह स्त्रोत
    निम्न प्रकार के होंगे -
१. सदस्यता शुल्क :-
     संस्थापक (संरक्षक) सदस्यता के लिए १००१ रु. एवं आजीवन सदस्यता के लिए ५०१ रु. देय होगा.
     साधारण सदस्यता के लिए प्रति वर्ष १०१ रु. देना होगा.
२. चन्दन कोष हेतु किसी प्रकार के लड़ाई-झगड़ों के निपटारा हेतु आवेदन पत्र के साथ ३०० रु. क्षेत्रीय
    समिति (कोर्ट फीस) के रूप में प्रत्येक पार्टी से लेकर झगडे की सुनवाई एवं फैसला कर सकती है.
    क्षेत्रीय समिति के फैसले के विरुद्ध अपील केंद्रीय महासमिति में की जा सकेगी. जिसके लिए आवेदन
    शुल्क वादी को ५०० रु. देना होगा.
३. विवाह पंजीयन शुल्क :-
     चंद्रनाहू जातीय समाज में होने वाले प्रत्येक विवाह का उपरोक्त महासमिति में पंजीयन कराना
     अनिवार्य होगा और इसके लिए चन्दन कोष में वर/वधु पक्ष को ५१-५१ रुपये जमा करना होगा
     यह राशी ग्राम प्रमुख द्वारा एकत्र कर क्षेत्रीय समिति को प्रदान करेगी महासमिति प्रतिवर्ष सामूहिक
    विवाह का आयोजन करेगी और इसके लिए वर-वधु प्रत्येक से उचित शुल्क लेगी.
विशेष शुल्क :-
     समय-समय पर किसी विशेष परिस्थितिवश,जाति विकास के हित में सार्वजनिक कार्य हेतु अनिवार्य
     चंदा वसूली योजना का प्रावधान किया जावेगा. इसके तहत चंद्रनाहू समाज के सदस्यों से भूमि,
     व्यवसाय, नौकरी या अन्य आय के स्त्रोतों पर निर्णयानुसार शुल्क निर्धारण किया जायेगा जो देय
     होगा.
आय की वसूली एवं विवरण :
     उपरोक्त शुल्क की वसूली का उत्तरदायित्व क्षेत्रीय समिति पर होगा. वे वसूल शुदा राशि से २५
     प्रतिशत अपने क्षेत्र में रखकर (पोस्ट ऑफिस/ग्रामीण बैंक में) शेष रकम केंद्रीय कोषाध्यक्ष के पास
     जमा करेंगे. कर्मचारी एवं व्यवसायी जो दूर दराज में निवास करते हैं. वे चन्दन कोष के अकाउंट में
     चेक या ड्राफ्ट भेज सकते हैं. रुपये मनिओर्देर द्वारा भेजी जा सकती है.
धारा :- ८ - अंकेक्षण एवं लेखा परीक्षण :-
     श्री चंद्रनाहू जातीय विकासशील महासमिति की कार्यकारिणी द्वारा किये गए आय-व्यय का लेखा
     परीक्षण महासमिति के अंकेक्षक द्वारा की जाएगी.
धारा :- ९ - संविधान संशोधन प्रक्रिया :-
     संविधान नियमावली में संशोधन या परिवर्तन का अधिकार महासभा को होगा. महासभा में यह कार्य
     उपस्थित सदस्यों के दो तिहाई बहुमत से ही संभव होगा.
धारा :- १० - पदाधिकारियों पर अविश्वास प्रस्ताव :-
     केंद्रीय एवं क्षेत्रीय कार्यकारिणी के किसी भी पदाधिकारी पर अविश्वास का प्रस्ताव क्रमशः
     महासमिति एवं क्षेत्रीय समिति के दो तिहाई सदस्यों द्वारा पारित किया जा सकेगा.
धारा :- ११ :- केंद्रीय कार्यकारिणी के निर्णय का पुनर्विचार महासभा में विशेष परिस्थिति में ५०१ रु.
     आवेदन शुल्क देने पर किया जा सकता है.
धारा :- १२ - ग्रामीण समिति :- प्रत्येक ग्राम के चंद्रनाहू समाज के प्रतिनिदियों द्वार चुना जायेगा.
     इसमें कम से कम ७ व अधिकतम ११ सदस्य होंगे एवं कम से कम १ महिला सदस्य का चयन करना
     अनिवार्य है.
धारा :- १३ - क्षेत्रीय समितियां :-
     संपूर्ण चंद्रनाहू समाज को भौगोलिक दृष्टि से ४० क्षेत्रों में विभक्त किया गया है. जिसमें सम्मिलित
     गाँव के नाम क्षेत्रानुसार निम्न है :-

नया परिसीमन के अनुसार क्षेत्रों की सूची

क्र.जिला ब्लाक क्षेत्र सम्मिलित गाँव
1जांजगीर चाम्पाडभरा डभरा डभरा, बरभाठा, हरदीडीह, राठापाली, सुखापाली, कवलाझार, सकराली, चारभाठा, कुसुमझर, बसंतपुर
फरसवानीफरसवानी, गोबरा, खैरा, खोंधर, खोंधरी, चुरतेली
कांसाकांसा, कतौद, चुरतेला, बड़े कटेकोनी, छोटे कटेकोनी, तुर्कापाली
फरसवानीफरसवानी, गोबरा, खैरा, खोंधर, खोंधरी, चुरतेली

और पढ़ें




www.chandranahu.in
www.chandranahu.org
श्री चन्द्रनाहू जातीय विकासशील महासमिति
चन्द्रनाहू सामाजिक भवन स्टेशन रोड सक्ती जिला जांजगीर चाम्पा छ.ग.
E-mail-
Phone-




प्रिय, स्वजातीय भाइयों एवं बहनों...
              छत्तीसगढ़ प्रदेश, देश व विदेशों में फैले ऐसे लोगों को समाज के बारे में जानने की बडी इच्छा होती है। वर्तमान मे सूचना तंत्र से तुरंत जानकारी मिल सके, इस उददेश्य से चन्द्रनाहू विकासशील समाज के द्वारा www.chandranahu.in का निर्माण किया गया है। इसके माध्यम से विभिन्न क्षेत्रों की सामाजिक गतिविधियों तथा... और पढ़ें

तकनिकी सहायता | संपर्क सूत्र
support@chandranahu.in (वेब मास्टर)
फोन करें- +91 97701-39529
Total Hits - hits counter

चन्द्रनाहू (चन्द्रा) विकास महासमिति
चन्द्रनाहू सामाजिक भवन स्टेशन रोड सक्ती जिला जांजगीर चाम्पा छ.ग.
Copyright © 2012-2013 Chandranahu.in
| All Right Reserved | Chandranahu (Chandra) Vikas Mahasamiti |

Powered By:-
ShubhTech www.shubhtech.in